Big Basket के 2 करोड़ यूजर के डाटा हुए चोरी, किया गया 30 लाख रुपए में बेचने का दावा

Big Basket 2 crore users data stolen claims 30 lakh rupees
Spread the love

साइबर क्राइम एक ऐसी जटिल समस्या है जिसमें पूरा विश्व समा चुका है । साइबर अपराध एक ऐसा अपराध है जिसमें कंप्यूटर और नेटवर्क शामिल है किसी भी कंप्यूटर का अपराधिक स्थान पर मिलना या कंप्यूटर से कोई अपराध करना कंप्यूटर अपराध कहलाता है।

कंप्यूटर अपराध में नेटवर्क शामिल नहीं होता है किसी की निजी जानकारी को प्राप्त करना और उसका गलत इस्तेमाल करना किसी की भी निजी जानकारी कंप्यूटर से निकाल लेना यह चोरी करना कि साइबर अपराध कहलाता है । साइबर अपराध भी कई प्रकार के होते हैं जैसे स्पैम ईमेल हैकिंग फिशिंग वायरस को डालना किसी की जानकारी को ऑनलाइन प्राप्त करना या किसी पर हर वक्त नजर रखना होता है।

मुख्य समाचार :- भारत की ग्रॉसरी ई-कॉमर्स कंपनी बिग बास्केट के दो करोड़ यूजर्स के डाटा में सेंध लगी है साइबर इंटेलिजेंस कंपनी CYBLE के मुताबिक एक हैकर ने बिग बास्केट से जुड़े डाटा को 30 लाख रुपए में बेचने के लिए रखा है कंपनी ने बेंगलुरु में साइबर क्राइम सेल में एक पुलिस शिकायत दर्ज कराई है और साइबर एक्सपर्ट्स के दावों की सच्चाई जानने की कोशिश कर रही है साइबिल की रिसर्च टीम ने अपने रूटीन वेब मॉनिटरिंग में पाया कि बिग बास्केट के डाटा को $40000 में बेचा जा रहा है इसकी फाइल लगभग 15 जीबी की है अतः बिग बास्केट के यूजर्स के डाटा संकट में है । साइबिल का दावा की डाटा चोरी 30 अक्टूबर 2020 को हुई है दोषियों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है बिग बास्केट ने अपने बयान में कहा कि कुछ दिन पहले ही हमें डाटा के चोरी होने की जानकारी मिली तत्काल हमने बेंगलुरु में साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स के साथ मिलकर छानबीन कर रहे हैं । बिग बास्केट का कहना है कि कस्टमर्स की निजता और गोपनीयता हमारी प्राथमिकता है उनके वित्तीय डाटा जैसे क्रेडिट कार्ड नंबर वगैरह स्टोर करके नहीं रखते हैं और हमें पूरा भरोसा है कि वित्तीय डाटा पूरी तरह से सुरक्षित है ।
बेंगलुरु की कंपनी बिग बास्केट में ALIBABA GROUP और MIRAE ASSET- NAVER ASIA GROWTH FUND और UK सरकार की CDC ग्रुप का पैसा लगा है।


साइबर दंड के प्रावधान :-
कंप्यूटर संसाधनों से छेड़छाड़ की कोशिश धारा- 65
कंप्यूटर में संग्रहित डाटा के साथ छेड़छाड़ कर उसे हैक करने की कोशिश धारा – 66
किसी की भी पहचान चोरी करने के लिए दंड का प्रावधान धारा 66- C
किसी की निजता भंग करने के लिए दंड का प्रावधान धारा 66-E
साइबर आतंकवाद के लिए दंड का प्रावधान धारा 66-F
ईमेल के माध्यम से धमकी भरे संदेश भेजना आईपीसी की धारा- 503
फर्जी डिजिटल हस्ताक्षर का प्रकाशन धारा 73 .

Current News Today

Read Previous

सेटेलाइट के लांच होते ही  PSLV ने भेजी धरती की खूबसूरत तस्वीरें, चमकता दिख रहा है जमीन

Read Next

Biden बने अमेरिका के नए राष्ट्रपति, P M मोदी ने दी बधाई 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *