Benefits of Drink Green Tea

Benefits of Drink Green Tea

Green Tea Good for weight loss and Green Tea for Cholesterol Control

Spread the love

What is Green Tea | Benefits of Drink Green Tea 

पुराने समय से ही चिकित्सा पद्धति के अंदर ग्रीन टी का इस्तेमाल किया जा रहा है। ग्रीन टी ज्यादातर चीनी लोगों का पेय पदार्थ है। चीनी लोग इसका उपयोग अपने आप को फिट रखने के लिए करते हैं।  यह शरीर में उर्जा प्रदान करता है और बहुत से रोगों से लड़ने में मदद करता है। भारतीय चिकित्सा पद्धति में भी ग्रीन टी का इस्तेमाल किया जाने लगा है।

यह बहुत से रोगों के निदान के लिए काम में ली जाती है। ग्रीन टी का उपयोग कैंसर रोग से लड़ने के लिए भी किया जाता है। भारत में बहुत से लोग ग्रीन टी का उपयोग वजन को कम करने के लिए करते हैं क्योंकि इसमें एंटी ऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं जो व्यक्ति की चर्बी को कम करने में मदद करता है। ग्रीन टी से बहुत से लोगों को फायदा हुआ है क्योंकि यह गुणकारी होते हैं जिन लोग इसका उपयोग फिट रहने के लिए करते हैं।

ग्रीन टी क्या है? (What is Green Tea |Benefits of Drink Green Tea )

ग्रीन टी एक चाय की पत्ती है। जिसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं और साथ ही साथ पॉलीफेनॉल के भी है। ग्रीन टी चाय की पत्ती की तरह आती है परंतु यह नॉर्मल चाय  से अलग होती है।

यह एक भारतीय औषधि है। इसका उपयोग पाचन मानसिक और दिल के इलाज के लिए किया जाता है इसका उपयोग खून रोकने के लिए और गांव बनने के लिए भी किया जाता है ग्रीन टी डायबिटीज लोगों के लिए असरदार होती है इन पत्तियों को उबालकर पीने से लोगों को काफी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

ग्रीन टी के प्रकार | Types of Green Tea

जैसा कि हम जानते हैं चाहे बहुत तरीके की होती है जिसमें से ग्रीन टी भी एक है परंतु ग्रीन टी में भी बहुत से प्रकार पाए जाते हैं। ग्रीन टी की खेती समय के अनुसार की जाती है सभी जानते हैं ग्रीन टी कितने प्रकार में उपलब्ध है।

सैंचा

यह एक ग्रीन टी है जो सबसे ज्यादा काम में ली जाती है। इसको बनाने की प्रक्रिया बिल्कुल अलग है। इन पत्तियों को पहले धूप में सुखाया जाता है और फिर बाद में भाप के द्वारा इनकी चाय  को निकाला जाता है।

फुक मुंशी  सैंचा

फुक मुंशी यह अलग प्रकार की ग्रीन टी होती है इसका नाम इसलिए फुक मुंशी है क्योंकि इसका अर्थ होता है लंबे समय तक उबला हुआ। इस ग्रीन टी को तैयार करने के लिए पत्तियों को भाप की गर्मी से तैयार किया जाता है। बाद में इसका पाउडर बनाया जाता है जिससे इसका रंग गहरा हो जाता है और इस स्वाद में अच्छी होती है।

ग्युकुरो

यह ग्रीन टी अलग होती है इसमें पत्तियों को सूरज की धूप में नहीं सूख आ जाता बल्कि छाया में सुखा जाता है। यह बिल्कुल सेंच से अलग होती है।

क्युबू सेचा

यह ग्रीन टी एक हफ्ते बच्चों की जाती है इसे धूप की रोशनी से बचाया जाता है जिसके लिए इसे कपड़े से ढक दिया जाता है। यह बिल्कुल अलग कर चाय की पत्ती होती है क्योंकि यह झाड़ियों में लगती है।

Green Tea पीने के फायदे क्या है? | Benefits Of Drink Green Tea 

ग्रीन टी के बहुत से फायदे और भी हैं जैसे वजन कम करने के लिए मधुमेह रोग से छुटकारा पाने के लिए अल्जाइमर रोग से छुटकारा पाने के लिए यह बहुत फायदेमंद होती है।

  • इसका उपयोग बालों को झड़ने से रोकने के लिए किया जाता है।
  • ग्रीन टी का उपयोग दांतों के रोग कुछ ठीक करने के लिए किया जाता है।
  • ग्रीन टी का उपयोग वजन कम करने के लिए क्या जाता है
  • इसका उपयोग मधुमेह रोग से छुटकारा पाने के लिए क्या जाता है
  • यह कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए काम आती है
  • यदि व्यक्ति का ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है तो उसका उपयोग कर सकते हैं यह घरेलू उपाय।
  • ग्रीन टी की उम्र बढ़ाने में फायदेमंद है।
  • कैंसर रोग के इलाज के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल किया जाता है।
  • व्यक्ति की हड्डी मजबूत करने के लिए ग्रीन टी का उपयोग किया जाता है।

वजन कम करने के लिए – Green Tea Good for weight loss

ग्रीन टी का उपयोग व्यक्ति की चर्बी को कम करने के लिए  किया जाता है। ग्रीन टी वेट लॉस करने में बहुत फायदेमंद है इसके अंदर एंटी ऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं जो की थी कि वजन कम करने में मदद करता है। ग्रीन टी शरीर में पाचन तंत्र के लिए सही होती  है ग्रीन टी के अंदर caffeine पाया जाता है। इसके अंदर एक फ्लेवोनॉयड होता है जो कि कैंट एक्सीडेंट होता है यह है वर्षा को तोड़ता है और सभी में ऊर्जा प्रदान करता है। व्यक्ति के इसका रोजाना इस्तेमाल करने शरीर में ऊर्जा बढ़ती है और शरीर चुस्त रहता है।

मधुमेह रोग के लिए Green Tea Good For Dibities

ग्रीन टी का उपयोग मधुमेह रोग को ठीक करने के लिए किया जाता है। यदि डायबिटीज व्यक्ति इसका उपयोग रोजाना करे तो उसे डायबिटीज की बीमारी से छुटकारा मिल जाता है। यह अग्नाशय में इंसुलिन को बढ़ाता है और ब्लड प्रेशर को मेंटेन रखता है। यह शुगर लेवल को कंट्रोल कर के पीड़ित व्यक्ति में गुलकोज को अवशोषित कर लेता है। यदि व्यक्ति मैं डायबिटीज ज्यादा हो तो जैसे उसका प्रभाव आंखों और दिल और गुर्दे पर ज्यादा पता है तो इस प्रभाव को रोकने के लिए और शुगर के लेवल को कम करने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल किया जाता है ताकि मधुमेह रोग को कम किया जा सके

कोलेस्ट्रोल कम करने के लिए Green Tea For Cholesterol Control 

ग्रीन टी कोलेस्ट्रोल कम करने के लिए फायदेमंद है।  यह खराब कोलेस्ट्रॉल और अच्छे कोलेस्ट्रॉल का लेवल बनाए रखता है। डॉक्टर के अनुसार बताया गया है कि व्यक्ति के कोलेस्ट्रोल पर प्रभाव पड़ने से व्यक्ति का वजन बढ़ना शुरू हो जाता है जिससे उसे परेशानी होती है। यह परेशानी खराब कोलेस्ट्रॉल के कारण होती है। Green tea खराब कोलेस्ट्रोल को कम करती है और अच्छे कॉलेज चुन को बढ़ाते हैं यह हमारे धमनियों को भी साफ रखती है ताकि दिल का दौरा पड़ने से रोका जा सके।

कैंसर के इलाज के लिए Green Tea For Cancer

डॉक्टर के अनुसार बताया गया है कि ग्रीन टी के अंदर पॉलीफेनॉल का लेवल ज्यादा होता है जो कैंसर की कोशिकाओं को मारने में मदद करता है। यह कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोक देता है। विशेषज्ञ द्वारा बताया गया कि ग्रीन टी के अंदर पाए जाने वाला पॉलीफेनॉल ट्यूमर को बढ़ने से रोकता है और जो शरीर को पराबैंगनी किरणों से खत्म होता है उसे भी बचाता है। ग्रीन टी के अंदर एंटी ऑक्सीडेंट विटामिन सी विटामिन ई की तुलना में 24 गुना ज्यादा फायदेमंद होता है यदि व्यक्ति दिन में चार बार ग्रीन टी का सेवन करता है तो कैंसर रोग से छुटकारा मिल जाता है।

ग्रीन टी के नुकसान

ग्रीन टी में फायदे के गुण पाए जाते हैं परंतु इसमें पाए जाने वाले कुछ तत्व व्यक्ति के लिए नुकसानदायक भी होते हैं यदि इसका व्यक्ति ज्यादा उपयोग करता है तो इसे कुछ नुकसान हो सकते हैं चलिए जानते हैं

  • ग्रीन टी में कैसे होता है जो वो शरीर में ज्यादा जाने से पेट में खराबी कर देता है, उल्टी की समस्या पैदा कर देता है दस्त और अक्सर पेशाब करते समय जलन पैदा करता है।
  • ग्रीन टी के अंदर कतेचिस होता है जो भोजन से मिलने वाले आयरन को कम कर देता है।
  • यदि व्यक्ति दवा का सेवन कर रहा है तो उसे ग्रीन टी का उपयोग नहीं करना चाहिए नहीं तो यह व्यक्ति को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • ग्रीन टी के अंदर टैनिन पाया जाता है तो उससे कब्ज और पेट दर्द की परेशानी पैदा कर देता है।

व्यक्ति को अपनी जरूरत के हिसाब से ही ग्रीन टी का इस्तेमाल करना चाहिए ज्यादा इस्तेमाल करने से व्यक्ति को नुकसान पहुंचता है क्योंकि इसमें बहुत से गुण पाए जाते हैं जो बहुत से रोगों के इलाज के लिए काम आता है अनावश्यक यूज व्यक्ति को नुकसान पहुंचा सकता है।

Green tea कैसे बनाये।  

अक्सर लोग ग्रीन टी बनाने में गलती करता है वह सीधा उसे मान लेते हैं और डायरेक्ट भी लेते हैं परंतु ग्रीन टी बनाने का सही तरीका होता है जिससे ग्रीन टी का सही से उपयोग किया जा सके चली जानते हैं:

  • सबसे पहले पानी को उबाल लेना चाहिए।
  • पानी के ऊपर जाने के बाद एक कप में ग्रीन टी की पत्तियां लेनी चाहिए।
  • व्यक्ति को एक कप के लिए एक चम्मच ग्रीन टी का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • कप में चाय की पत्ती डालने के बाद गरम पानी डालें।
  • अब चाय को अच्छे से हिला ले।
  • कुछ समय के लिए चाय के कप को ढक दें।
  • 2 मिनट से ज्यादा चाय को ढके नहीं रखें नहीं तो कड़वी लगती है।
  • अभी चाय की पत्ती को छान लें।
  • अभी चाय पीने के लिए तैयार है।

 

Current News Today

Current News Today: Hindi News (हिंदी समाचार) website, Latest News, Breaking News in Hindi of India, World Wide News, Sports, business, film, Health, Fashion, Kids and Current Affairs.

Read Previous

Apple Cider Vinegar

Read Next

रोग -प्रतिरोधक क्षमता क्या है (What is immunity power ?) और रोग – प्रतिरोधक क्षमता को कैसे असरदार बनाये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *