41 बार नकली सोना देने के बाद बैंक से लिया लोन, इसका खुलासा होने पर अधिकारियों के उड़ गये थे होश

gold loans face rising fraud
Spread the love

अभी तक आप सभी ने ऐसे ही कई खबरें पढ़े होंगे, जिसमें बैंक कंज्यूमर ऑनलाइन फ्रॉडिंग का शिकार होते हुए देखा गया  है। इसकी वजह से लोग थाने का चक्कर भी काटते रहते  हैं और सायबर सेल का भी। लेकिन इस बार बैंक खुद  ही ठगी का शिकार हो गया है, वो भी एक,या  दो बार नहीं बल्कि 41 बार।

आपको हम  बता दें कि ये मामला गुजरात के सूरता का है, जहां पर  30 ग्राहको ने  नकली सोना देकर 41 बार लोन ले गए।  इस मामले में बैंक को  जब भनक लगी तो अधिकारियों के होश उड़े हुए हैं।

अधिकारियों ने थाने में शिकायत दर्ज करवाया, ओर उसके  बाद इसकी जांच सूरत क्राइम ब्रांच को सौंपा गया है। आपको बता दें कि इस मामले में सूरत क्राइम ब्रांच ने विशाल भरवाड़ नामक शख्स को गिरफ्तार किया है।

हम इस मामले की खुलासे की बात कर रहे है , इस मामले का खुलासा बड़े ही दिलचस्प तरीके से हुआ। जब ICICI बैंक के मासिक ऑडिट में एक ही ग्राहक द्वारा बैंक की 3 अलगअलग ब्रांचों में लोन लेने का पता चला तो इसकी  जाच बैंक ने अपने तरीके से  शुरू करी थी

बैंक ने  इस जांच में पाया कि विशाल भरवाड़ नामक शख्स ने अपने अन्य 30 साथियों के साथ मिलकर 10 अगस्त 2020 से 9 सितम्बर 2020 के दौरान 10 ब्रांचों से करीब 41 बार नकली सोना देकर 2.55 करोड़ का लोन लिया है।  ये घोटाला सूरत शहर की मोटा वराछा, उत्राण, कतारगाम, योगी चौक, सरथाना और पीपलोद क्षेत्र की शाखाओं में हुआ है। इस मामले में महिलाओं और पुरुषों ने एक दूसरे का बैंक में रेफ्रेंस देकर लोन लिया है।

ऑडिट रिपोर्ट में खुलासा होने के बाद उनके द्वारा सिक्योरिटी के रूप में बैंक को दिए गए सोने की खराई की गई तो पता चला  जितना भी सोना है वो सब के सब  नकली है। ओर इसके  बाद क्राइम ब्रांच ने 30 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली है।

सूरत क्राइम ब्रांच के एसीपी आर.आर.सरवैया ने  यह बताया कि इस मामले में अब तक 7 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है।  ओर अभी भी मामले की जांच चल रही है।

Current News Today

Read Previous

कोरोना के इस काल में इसरो द्वारा भारत ने रच दिया इतिहास, अंतरिक्ष में भी अब फिट होगी भारत की तीसरी आंख

Read Next

सेटेलाइट के लांच होते ही  PSLV ने भेजी धरती की खूबसूरत तस्वीरें, चमकता दिख रहा है जमीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *